पल पल हरक्षण हरपल

by Dev B

पल पल में बीता कल
बीत रहा आज हरपल
तो पल पल बीतेगा कल
पल पल हरक्षण हरपल

तू समर्पण कर हरपल
तू अर्पण कर पल पल
तो न समझे कोई हरपल
पल पल हरक्षण हरपल

इन्तजार न कर हरपल
ऐतबार न कर पल पल
तो बेजार न कर ये पल
पल पल हरक्षण हरपल

छुटे साथ कोई हरपल
टूटे बिस्वास पल पल
तो जीले रिश्तों के पल
पल पल हरक्षण हरपल

सोच न गम की हरपल
खुशियाँ बीती पल पल
तो गम बीतेगा पल पल
पल पल हरक्षण हरपल

जैसे बहता हो हरपल
नल से जल कल-कल
वैसे खोता जीवन पल
पल पल हर क्षण हरपल

सबका वक़्त बीते हरपल
मौत आती पास पल पल
तो जीले तू अपने हरपल
पल पल हरक्षण हरपल

जीवन के क्षणिक “पल” को समर्पित “एक अधूरी रचना”
-Dev B

Advertisements

2 Comments to “पल पल हरक्षण हरपल”

  1. Bahut sundar…Every line is very meaningful and so beautifully different…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: