Archive for February, 2009

February 26, 2009

एक नए दिन की शुरुआत, हँसी के साथ

by Dev B

समंदर के किनारे, रेत की महल बनाते वक्त,
मुझे पता था लहर आयेगी ,और बहा ले जायेगी रेत
और कुछ भी नही बचेगा, कोई नमो निशान भी नही |

फिर भी डर नही था,इक जुनू था इसे पुरा करने का ,
सो शुरुआत की, पर शायद लहर का डर था सो रेत का पहाड़ बनाया |
और उसकी चोटी पर कुछ रेत के ढेर को आकार देने लगा |

पता था रेत से बनी दीवारे कमजोर होती हैं ,
फिर भी मजबूती देने की फजूल कोशिश की |
जब रेत इमारत की शकल लेने लगी , तो सोचा थोड़ा दूर से देखूं |

अभी थोडी दुरी …….और फिर एक लहर …
वही हुआ.. …जहाँ मैंने रेत का पहाड़ बनाया था …
वहां अब सपाट मैदान था एक वीरान मैदान |

और जाने क्यूँ उस मैदान में उस अधबने आकार को ढूंढ रहा था |
शायद मैं अकल’बंद’ था , तभी सब जानते हुए ,
इतनी महनत करने की सोचा , पर उस सोच पर गुस्सा आरहा था |

तभी एक हँसी सुनी ,ये मेरी ही हँसी थी ,
जाने कितने सपने टूटे थे इस रेत की ढेर की तरह |
कुछ अपने सपने कुछ अपनों के सपने ,समय की लहर में बह गए |

फिर वही हँसी , एक तेज़ हँसी और कुछ शोर |
सुबह का शोर, उस शोर में एक परिचित आवाज़ थी |
एक सुनी आवाज़ , ‘ उठो’ ‘चाय’ ‘न्यूज़ पेपर’ ‘सुबह आजतक’

आलस भिचे आँखे घड़ी पर नज़र डाली, ६ बजे थे सुबह के ,
सुबह का सपना , सचा सपना , अपना सपना, सपनो का सपना
अधूरा सपना , टुटा सपना , बिखरा सपना , और एक हँसी |

और एक नए दिन की शुरुआत, हँसी के साथ |
एक नई सुबह, एक नया सपना, एक नई लहर, एक नया सफर |
सब कुछ नया था बस एक चीज़ पुरानी थी -हँसी, मेरी अपनी हँसी |

– Dev B

Tags:
February 22, 2009

मैं जो चाहता हूँ वो करता हूँ |

by Dev B

हाँ मैं थोड़ा पागल हूँ |

क्यूंकि मेरे शहर के लोग आज महानगरो की ओर दौड़ रहे हैं,

तो मेरा दिल आज दिल्ली से दूर पटना लौटने को चाहता है |

क्यूंकि ब्रांड के फैशन और मॉल के दौड़ में

अपनी एक नई पतलून से ब्रांड का नाम हटाना चाहता हूँ |

हाँ मैं थोड़ा पागल हूँ |

क्यूंकि इस महानगर की लालबत्ती के फुटपाथ पर,

रोते दूधमुहे बच्चे के साथ, मेरी भी आँखों को नम करना चाहता है |

क्यूंकि सुबह सुबह ऑफिस के रास्ते में रोज मिलने

वाले स्कूल बस से झांकते बच्चो को चिढाना चाहता हूँ |

हाँ मैं थोड़ा पागल हूँ |

क्यूंकि हर पल बनते बिगड़ते रिश्तों की दुनिया में ,

मैं हर छोटे – बड़े रिश्ते निभाना चाहता हूँ |

क्यूंकि अपने दोस्तों की कसी गई फब्तियों पर,

मुझे हँसी नही आती बल्कि उनसे घृणा करना चाहता हूँ |

हाँ मैं थोड़ा पागल हूँ |

क्यूंकि मुझे बोलती भीड़ में,

आज भी चुप रहकर सबकी सुनना चाहता हूँ |

क्यूंकि आज अपने अंग्रेज बॉस से मीटिंग नही,

बार्तालाप करना चाहता और उससे हिन्दी सुनना चाहता हूँ|

हाँ मैं थोड़ा पागल हूँ |

क्यूंकि अब आपको लग रहा होगा की मैं पुरा पागल हूँ ,

मैंने माना है की मैं हूँ|

पर मैं तो खुश हूँ ,क्यूंकि मैं जो चाहता हूँ वो करता हूँ |

– Dev  B